Monday, March 23, 2015

गीत



मैंने आवाज दी वसंत को
जंगली हवाएं क्यों आई
घोटना चाहती है मेरे गीत
कुछ प्रेम के गीत कुछ शांति के गीत,
गीत कुछ सृजन के
गीत जो मेरी पहचान है
ले जाना चाहती है उन्हें उड़ा कर
बंद करना चाहती हैं उन्हें गुफा में
लगा देगी चट्टान का ताला
गीत फिर भी गूंजेगे
क्योंकि उनमे बसे है नौ स्त्रियों के सातों सुर

1 comment: