Tuesday, January 27, 2015

मैंने सिर्फ मुहब्बत की

हवायें बदली बदली हैं ये मौसम बहका बहका है
मैंने सिर्फ मुहब्बत की तो फिर ये जादू कैसा है।
नज़्मों के बादल घिरे थे कुछ गज़लें भी बरसी थीं
मेरी कच्ची धरती से उठी भाप में चंदन महका है।
उस रात चाँद से तुमने क्या कह दिया बता देना
आजकल मुझसे जानें क्यूँ वो उखड़ा उखड़ा रहता है 

तुम्हे जब याद करती हूँ तो होंठ मुस्कानें लगते हैं
ये दुनिया वाले कहते हैं मुझे शायद कुछ हुआ सा है।

1 comment:

  1. ये मुहब्बत का ही जादू है ...

    ReplyDelete