Monday, March 26, 2012

खामोश यादे

मेरी सोती हुई आँखों में जगते हुए तुम ,
 मेरे ख्वाबों में रोज ही चले आते हो .

हर आहट, हर खुशबू, हर खबर में तुम ,
यादो के तसव्वुर से जाते न हो .

मेरी खामोशी में हरसिंगार से झरते तुम ,
मेरे वजूद में क्यों छ  जाते हो .

कैसे लब खोलू क्या कहूं उनसे ,
ये मन तुम क्यों नही समझ पते हो .


बस ठहर , रूक जा ये मन ,
बार- बार तुम क्यों बहक जाते हो .

सुन मन तू सूखा है , तू सूखा ही रह ,
उनसे मिल के क्यों महक जाते हो .
खामोश यादे

7 comments:

  1. yaadein to hamesha khamosh hi hoti hain, shor to unke peeche hota hai....

    ReplyDelete
  2. बस ठहर , रूक जा ऐ मन ,
    बार- बार तुम क्यों ....

    सुंदर रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत रचना.

    आभार.

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना... !!

    ReplyDelete
  5. kya baat hai....urdu ke shabdon ka kya lajawab upyog kiya hai!

    ReplyDelete