Saturday, April 23, 2011

चलो दोनों चले वहां










बड़े -बड़े पहाड़ो के 
सकरे से रास्तो के बीच 
ना कोई आता जाता जंहा 
चलो दोनों चले वहां 
जहा दर्रो से निकले धवल  पानी 
जहा सन्नाटे की ही हो वाणी 
चलो चले वह 
ना कोई आता जाता जहा
जहा पैरो के नीचे पत्ते करे चरर मरर 
जहा हवा की हो सनन-मनन 
ना कोई आता जाता 
चलो दोनों चले वहा
सुन्दर -सुन्दर परिंदों का हो जहा आवास  
जंहा धरती के साथ -साथ हो आकाश 
वही करे निवास 
न  कोई आता जाता जहा 
चलो चले वहा 
अब ना रुके यहा   
चलो चले वहा 

  

11 comments:

  1. खुबसुरत रचना के लिए बधाई के पात्र है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. जिन्दगी चलने का नाम है बहुत अच्छी सुन्दर रचना, बधाई

    ReplyDelete
  3. प्रकृति के प्रति आसक्ति भव उकेरे है . सुँदर सुरम्य कविता .

    ReplyDelete
  4. आपने बहुत सुंदर शब्दों में मन के भावों को अभिव्यक्त किया है ..!
    अन्तर्मन की भावनाओं को अभिव्यक्त करती उम्दा रचना...
    मुझॆ खुशी हुई कि आप समाजशास्त्र विषय से पी.एच.डी की हॆ..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन लिखा है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  6. थॆक्स अपने विचार देने के लिये..मुझे संवाद के लिये आपकी इस बहुमूल्य रचना का सहारा लेना पड रहा हॆ उसके लिये माफ कीजियेगा...आपने कहा कि आपके सामने जो सच आता हॆ वो आधा सच होता हॆ..क्या आप इस विषय पर स्वस्थ सवांद करना पसन्द करेगी? आपसे विचार-विमर्श करने का इच्छुक हू..मात्र इसलिये नही कि आपने कमेन्ट किया हॆ मुझे कमेन्ट की कोई चाह नही हॆ..पर आप समाजशास्त्र की अध्यापिका हॆ इसलिये आपसे बात करने के लिये इच्छुक हू..
    हो सके तो मेल कीजीयेगा.
    mr.ashishpal@gmail.com

    ReplyDelete
  7. धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
    हल्ला बोल

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ...., शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  9. वही करे निवास
    न कोई आता जाता जहा
    चलो चले वहा
    अब ना रुके यहा
    चलो चले वहा
    वाह!
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. सुन्‍दर शब्‍द, भाव भरे.

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर शब्दों और भावो से सजी रचना....

    ReplyDelete